ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शनिवार, 11 जनवरी 2014

My heart knows


If you cannot
Do not reply my letter
Nor try to meet me
My heart knows
Some compulsion
Stops you
From seeing me
Our relations
Can never break
Our love can never die
I know you pray for me
I do not need anybody
On my side
To live
Your happiness
And
Memories
Are enough for me
To live
16-16-11-01-2014
Love,memories,desperation,compulsion

Dr.Rajendra Tela,Nirantar

शुक्रवार, 10 जनवरी 2014

Beautiful faces do not attract me


Beautiful faces
Do not attract me
Suave manners
Do not lure me
Sweet talks
Do not seduce me
Mesmerizing smile
Do not move me
I am attracted
Lured
Seduced
Moved
By
Simple
Honest people
With
Souls as pure as
A new born
Child’s soul
15-15-10-01-2014
Beauty,life,beautiful

Dr.Rajendra Tela,Nirantar.

धन अर्जन ,धन अर्जन


काम केवल काम
सुबह से शाम बस
काम ही काम
ना आमोद प्रमोद
ना गाना बजाना
ना लिखना पढ़ना
ना मन को
खुश रखने का
ना कुंठा मुक्त
रहने का सोच
ना आत्म अन्वेषण
अब रह गया
मंतव्य केवल एक
येन केन प्रकारेण
धन अर्जन
धन अर्जन
एक ही लक्ष्य
एक ही उद्देश्य
तनाव का
दूसरा नाम हो गया
जीवन
14-14-10-01-2014

जीवन,धन अर्जन,लक्ष्य,तनाव,येन केन प्रकारेण .मंतव्य
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर  

गुरुवार, 9 जनवरी 2014

Test of patience


When time is
Unfavorable
Expectations betray
Whatever one does
Failure is the result
Life is on crossroads
One does not know
What to do
Where to go
One has to pass the
Test of patience
One
Who is successful?
Smiles again
One who fails
Keeps living in
Disarray
13-13-09-01-2014
Life,patience,disarray,cross roads

Dr.Rajendra Tela,Nirantar 

धैर्य की परीक्षा


कभी परिस्थितियां
बेचैनी का कारण
बनती हैं
कभी मज़बूरियाँ
चैन छीन लेती हैं
जब आशाएं भी
साथ नहीं देती हैं
ज़िंदगी चौराहे पर
ठिठक जाती है
धैर्य की परीक्षा की
घडी आती है
जिसने पार कर ली
उसकी जीत होती है
जो हार गया
उस पर निराशा
वर्चस्व जमाती है
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
12-12-09-01-2014

जीवन,जीवन मन्त्र,परिस्थितियां,आशा,निराशा,धैर्य 

बुधवार, 8 जनवरी 2014

Everybody desires peace


Everybody desires peace
But nobody has seen it
Nobody has ever got it 
It is the biggest dream
Every human being sees
Knowingly
 Just to get rid of stress
Pamper hope
Satisfy the mind
With the very thought
Of peace
11-11-08-01-2014
Peace,life,hope,stress

Dr.Rajendra Tela,Nirantar 

आशाओं का जाल


आज तो तन्हाई
ख़त्म हो ही जायेगी
हर सुबह ऐसे ही लगता है
बहारों की आशा में
शाम तक तो चेहरा
दमकता रहता है
शाम के जाते ही चेहरा
मायूस हो जाता है
रात भर फिर
तन्हाई के आगोश में
रहना पड़ता है
ना जाने क्यों
मन आशाओं के 
जाल से
निकल नहीं पाता 
10-10-08-01-2014
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
जीवन ,आशा,उम्मीद,तन्हाई

मंगलवार, 7 जनवरी 2014

धैर्य से चलो अगर


जीवन में 
ना तो उतावलापन 
अच्छा होता
ना सुस्ती अच्छी होती
ना स्वार्थ काम आता
ना ईर्ष्या काम आती
ना चैन मिलता
ना बेचैनी समाप्त होती
जीवन
नदी की मंझधार में
नाव से कम नहीं होता
कभी दांये तो कभी
बांये डगमगाता
सहनशीलता की
पतवार से खेओ अगर
संतुष्टी को
लक्ष्य बना कर
धैर्य से चलो अगर
सुगमता से
आगे बढ़ता जाता
अन्यथा समय से
पहले ही नदी की
धारा में समा जाता
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
09-09-07-01-2014

जीवन,जीवन मन्त्र,धैर्य,लक्ष्य,उतावलापन,सुस्ती

सोमवार, 6 जनवरी 2014

बंद खिड़कियों से झांकता हूँ


धूल से सने शीशे की
बंद खिड़कियों से
झांकता हूँ
घर के बाहर लगे पेड़ों के
साये भर दिखते हैं
शीशों को साफ़ कर के
बाहर देखता हूँ
पेड़ पहले से अधिक
स्पष्ट दिखने लगते हैं
खिड़कियाँ खोल कर
देखता हूँ
हरे भरे पेड़ तो स्पष्ट
दिखते ही हैं
ताज़ी हवा भी चेहरे को
छूने लगती है
ठीक मेरे मन की तरह
जब खुले मन से 
सोचता हूँ
हर बात स्पष्ट 
समझ मेंआने लगती है
जब आशंकाओं के
परदे के
 पीछे से देखता हूँ
बात पूरी 
समझ नहीं आती है
जब मन में शंका 
रखता हूँ
सब कुछ अस्पष्ट 
दिखता है 

© डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
08-08-06-01-2014
मन,सोच,जीवन,जीवन मन्त्र, सत्संग,

डा.राजेंद्र तेला,निरंतर

रविवार, 5 जनवरी 2014

रिश्तों के खूबसूरत कालीन


रिश्तों के
खूबसूरत कालीन
बुनने की चाह में
सब्र और प्रेम के
महीन धागों को
जोड़ते रहे
लोग नफरत की
कैंची से
उन्हें काटते रहे
सब्र और प्रेम के धागे
निरंतर उलझते रहे
कभी करीने से जुड़
ना सके 
रिश्तों के कालीन
कभी बन ना सके

© डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
07-07-05-01-2014
रिश्ते,जीवन,जीवन मन्त्र,सम्बन्ध,प्रेम,ईर्ष्या

डा.राजेंद्र तेला,निरंतर