ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शुक्रवार, 5 सितंबर 2014

गलतियों ने




अगर
गलतियों ने
तोड़ा मुझ को
गलतियों ने ही
जोड़ा मुझ को
वक़्त से लड़ना
गिर कर उठना

जीना सिखाया 
मुझ को 
© डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
467-07-05--09-2014  
गलती, जीवन,

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें