ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

गुरुवार, 12 दिसंबर 2013

सतह पर


रिश्ते नाते
मित्रता
संवेदनाएं
मन की
गहराइयों से
निकल कर
सतह 
पर आ गए हैं 
दिखाने हैं
इसलिए
निभाये जा रहे हैं
जो भी 
आवाज़ उठाये
सब उसे ही
दोषी कहने लगे हैं
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर 
15-385-12-12-2013
संवेदनाएं ,रिश्ते,नाते,मित्रता,सम्बन्ध,जीवन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें