ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शुक्रवार, 8 मार्च 2013

ना ऊपर से नर्म अन्दर से सख्त हूँ


न ऊपर से नर्म
अन्दर से सख्त हूँ
न ऊपर से सख्त
अन्दर से नर्म हूँ
न भ्रम में रखता हूँ
न भ्रम देता हूँ
न चेहरे पर 
चेहरा चढ़ाता हूँ
जैसा बाहर से दिखता हूँ
वैसा ही भीतर से हूँ
दोस्तों में मुंहफट
कहलाता हूँ 
आज के ज़माने में
मिसफिट हूँ


© डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
16-16-07-01-2013
चेहरे पर चेहरा चढ़ाना ,मुंहफट, भ्रम,
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर

1 टिप्पणी: