ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

सोमवार, 4 फ़रवरी 2013

उनको शिकायत है



मुंह से
निकली हर आह में
उनका नाम होता है
आँखों से
निकले हर अश्क में
उनकी जुदाई का दर्द
छुपा है
हर ख्वाब-ओ-ख्याल में
उनका अक्स बसा
रहता है
मगर फिर भी वो
हम से दूर रहते हैं
उनको शिकायत है
हम उन्हें
दिल से नहीं चाहते
947-65-15-12-2012
शायरी,मोहब्बत,ख्वाब-ओ-ख्याल

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें