ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शनिवार, 26 जनवरी 2013

कौन मरना चाहता है?



कौन मरना चाहता है?
मौत फिर भी आती है
कौन असफलता चाहता है ?
फिर भी हर बार
सफलता नहीं मिलती
 मर्म जीवन का
जिसने जान लिया
उसका जीवन सरल
हो जाता है
जो नहीं जान सका
वो जीवन भर बेचैन
रहता है
928-46-12-12-2012
जीवन ,जीवन मर्म,सफलता,असफलता

1 टिप्पणी:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    वन्देमातरम् !
    गणतन्त्र दिवस की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं