ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

सोमवार, 17 दिसंबर 2012

चिंगारी



पटाखे की
एक चिंगारी
फूस की झोंपड़ी
पर आ गिरी
क्षणों में
झोपडी जल कर
राख हो गयी
वो घर से
बेघर हो गयी
लोगों की
दीपावली मनी

उसके घर की
होली जली
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर 
844-28-16-11-2012
चिंगारी ,होली,दीपावली

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें