ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

मंगलवार, 11 सितंबर 2012

अपनों ने इतना सताया उनको



कभी मिले नहीं
फिर  भी डरते हैं 
हमसे
क्यूं देख कर 
अनदेखा करते हैं
हम कभी समझे नहीं
शायद अपनों ने
इतना सताया उनको
किसी अनजान पर
ऐतबार नहीं कर पाते
हर चेहरे पर दाग
दिखते हैं
कैसे यकीन दिलाएं
हम हज़ारों मील दूर
बैठे हैं
चाहें तो भी उनके 
करीब नहीं पहुँच सकते
© डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
05-08-2012
651-11-08-12

1 टिप्पणी:

  1. I was very encouraged to find this site. I wanted to thank you for this special read. I definitely savored every little bit of it and I have bookmarked you to check out new stuff you post.

    उत्तर देंहटाएं