ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

गुरुवार, 23 अगस्त 2012

मंजिल अभी दूर है पड़ाव नहीं डालना



मंजिल  अभी दूर है पड़ाव नहीं डालना
=============
जीत को
जीत नहीं मानना
ख्यालों को
मिला है मुकाम
इतना सा समझना
मंजिल  अभी दूर है
पड़ाव नहीं डालना
आ जाए
सफ़र में रुकावट  
हार नहीं मानना
हिम्मत होंसले से
निरंतर चलते रहना
बस इतना सा
जानना
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
17-07-2012
608-05-07-12

1 टिप्पणी:

  1. हिम्मत हारने से पहले वो ईश्वर एक इशारा करता हैं ...कदम आगे बढाने के लिए ...

    उत्तर देंहटाएं