ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शनिवार, 7 जुलाई 2012

हमें तो पता नहीं भैया, तुम्हें पता हो तो बता दो




क्या होती है राजनीति ?
कैसे चलते हैं चालें?
हमें तो पता नहीं भैया
तुम्हें पता हो तो बता दो
कैसे करते हैं घोटाला ?
कैसे लेते हैं रिश्वत ?
हमें तो पता नहीं भैया
तुम्हें पता हो तो बता दो
कैसे करवाते हैं दंगे?
कैसे होती है हड़ताल ?
हमें तो पता नहीं भैया
तुम्हें पता हो तो बता दो
कैसे करते हैं झूठ को सच ?
कैसे करते हैं काले को सफ़ेद ?
हमें तो पता नहीं भैया
तुम्हें पता हो तो बता दो
कैसे रखते हैं बोरियों में पैसे ?
कैसे भेजते हैं विदेश?
हमें तो पता नहीं भैया
तुम्हें पता हो तो बता दो
क्यों करते हो दिमाग खराब ?
क्यों हम से पूछ रहे हो ?
पूछना है तो
किसी नेता से पूछ लो
वो ही करता है सब
वही बताएगा सच ?
10-05-2012
507-22-05-12

2 टिप्‍पणियां: