ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

गुरुवार, 14 जून 2012

आज इतना हँसो



आज इतना हँसो
खुद हँसी तुमसे पूछे
तुम्हें हुआ क्या है ?
क्या बात हुयी ऐसी 
जो दिल इतना
 खुश है
क्यूं छिपा कर 
रखा है ?
मुझे भी बता दो
वो राज़ क्या है
© डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
17-04-2012
450-30-04-12
हँसना, हँसी, शायरी,,selected 

1 टिप्पणी: