ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शुक्रवार, 15 जून 2012

ये दिल तेरे लिए धडकता क्यूं है ?



ये दिल तेरे लिए
धडकता क्यूं है ?
तेरे बिना तन्हाई का
आलम क्यूं है ?
दिन के उजाले में
अन्धेरा क्यूं है ?
मेरे सवाल का
जवाब दे दो
या फिर दिल की
महफ़िल सज़ा दो
ऐसे सताने का हक
तुम्हें नहीं है
चाहने वालों को
दुत्कारना ठीक
नहीं है
न चाहो तो
मुस्कारा कर ना
कह दो
पर इस तरह
तडपा कर ना
मारो
17-04-2012
451-31-04-12

1 टिप्पणी: