ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

सोमवार, 23 अप्रैल 2012

ज़िन्दगी क्या है ,कोई ना जाना अब तक


ज़िन्दगी क्या है
कोई ना जाना अब तक
सबने अपने अपने
अंदाज़ से देखा उसे
अपनी अपनी
निगाहों से पहचाना उसे 
किसी ने
नाम दिया ज़न्नत का
किसी ने
दोजख बता दिया
कोई बोला
ज़िन्दगी कशमकश
तो किसी ने कहा मोहब्बत
कुछ ने कहा
ज़िन्दगी एक ऐसा मंज़र
जहां हँसना रोना साथ है
एक राय
कोई कर ना कर सका
अब तक
बस इतना ज़रूर पता है 
दिल जब तक धड़कता
इंसान ज़िंदा कहलाता
जिस दिन रुक गया
समझो सफ़र पूरा हुआ
ज़िन्दगी क्या है
कोई ना जाना
अब तक
08-03-2012
329-63-03-12

4 टिप्‍पणियां:

  1. ज़िन्दगी प्रश्न भी है जवाब भी ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. जहां हँसना रोना साथ है
    एक राय
    कोई कर ना कर सका
    अब तक.....sunder .......:))))) jindagi kya hai ab tak kisi ne na jana

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिंदगी यूँ ही चलेगी हर बार ....ऐसे ही कशमकश में

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिंदगी एक सफर है सुहाना ...
    यहाँ कल क्या हो किसने जाना...!

    उत्तर देंहटाएं