ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

बुधवार, 11 अप्रैल 2012

अच्छे के साथ


छात्र के 
जन्म दिन पर
शिक्षक ने गुलाब के
फूल की टहनी भेंट की
छात्र बोला गुरूजी
इसमें कांटे लगे हैं
हाथ में चुभेंगे
शिक्षक ने उत्तर दिया
चिंता मत  करो
काँटों से बचा कर इसे
पकड़ो
ध्यान रखो संसार में 
अच्छे के साथ
बुरा भी होता है
बुरे से बच कर रहो
अच्छे का साथ कभी
मत छोडो
10-04-2012
429-08-04-12

10 टिप्‍पणियां:

  1. 10 comments:

    सदा said...

    बिल्‍कुल सही ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।
    April 11, 2012 11:02 AM
    प्रतीक माहेश्वरी said...

    सही बात!
    April 11, 2012 11:14 AM
    अरूण साथी said...

    woh..jaise ki aap pakarte he..
    aabhar
    April 11, 2012 11:15 AM
    वाणी गीत said...

    सही!
    April 11, 2012 11:24 AM
    डा. अरुणा कपूर. said...

    यथार्थ की शिक्षा...सुन्दर रचना!
    April 11, 2012 11:41 AM
    Vibha Rani Shrivastava said...

    अच्छे के साथ ,
    बुरा भी होता है .... !!

    तभी तो जिन्दगी में मज़ा है नहीं तो उबाऊ न हो जाए .... !!
    April 11, 2012 11:47 AM
    सुज्ञ said...

    सही कहा डॉ राजेंद्र तेला जी नें,
    "बुरे से बच कर रहो" यही तो हमारे बस में है।
    April 11, 2012 12:04 PM
    expression said...

    बहुत बढ़िया........................
    April 11, 2012 12:29 PM
    रश्मि प्रभा... said...

    ध्यान रखो संसार में
    अच्छे के साथ
    बुरा भी होता है...मूलमंत्र
    April 11, 2012 2:34 PM
    M VERMA said...

    यथार्थ जीवन दर्शन
    April 11, 2012 5:40 PM

    उत्तर देंहटाएं
  2. M VERMA said...

    यथार्थ जीवन दर्शन
    April 11, 2012 5:40 PM
    veerubhai said...

    अनुकरणीय बोध प्रधान सौगात .
    April 11, 2012 7:33 PM
    S.N SHUKLA said...

    सार्थक प्रविष्टि, आभार.
    April 11, 2012 8:24 PM

    उत्तर देंहटाएं
  3. उचित शिक्षा
    एक गुरु की अपने शिष्य को...
    बहुत सुन्दर...!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. Sushil Kumar Joshi said...

    सुंदर !!
    April 12, 2012 7:06 AM

    उत्तर देंहटाएं
  5. mridula pradhan said...

    बुरे से बच कर रहो
    अच्छे का साथ कभी
    मत छोडो.....ekdam sahi likhe......
    April 12, 2012 10:54 AM

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिलबाग विर्क said...

    आपकी पोस्ट चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.in/2012/04/847.html
    चर्चा - 847:चर्चाकार-दिलबाग विर्क
    April 12, 2012 11:42 AM

    उत्तर देंहटाएं
  7. Blogger Rajesh Kumari said...

    ek behtreen seekh deti hui rachna.nirantar ji ko badhaai.

    April 12, 2012 11:53 AM

    उत्तर देंहटाएं
  8. Blogger anju(anu) choudhary said...

    bahut sahi kaha aapne ...tabhi tho ham aapka or aapke vicharo ka sath nahi chhodte

    April 12, 2012 6:10 PM

    उत्तर देंहटाएं