ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

मंगलवार, 27 मार्च 2012

जिस पौधे में कलियाँ ना खिले वो किसे भाता ?


जिस पौधे में
कलियाँ ना खिले
वो किसे भाता ?
जो कली फूल बन कर
ना खिले
उसे कौन चाहता ?
जो फूल
रूप से नहीं लुभाए
वो किसे अच्छा लगता ?
महक से
मदमस्त ना करें
उसे कौन याद रखता?
जो मनुष्य
मधुर व्यवहार ना करे
वो किसे भाता ?
जो कर्मों की 
महक
जग में ना फैलाए
उसे कौन याद रखता?

डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
25-02-2012
243-154-02-12

3 टिप्‍पणियां: