ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शनिवार, 10 मार्च 2012

सफलता केवल चाहने से नहीं मिलती


सफलता केवल
चाहने से नहीं मिलती
कर्म के साथ मेहनत भी
आवश्यक होती
ना मिले तो 
सब्र भी रखनी होती
असफलता का दोष
दूसरों पर डालने की
प्रवत्ती घातक होती
स्वयं भी
आत्म मंथन करो
गुरओं और बड़ों से
मार्गदर्शन लो
कारण जानने का
प्रयत्न करो
एक बात और समझ लो
नाकाम ही देते हैं दोष
दूसरों को
रोते रहने से असफल
कभी सफल नहीं होते
जो सफल हुए 
उनसे भी सीख लो
प्रयत्न करते रहो 
हिम्मत होंसले से 
लड़ते रहो
ना हताश हो 
ना निराश हो
निरंतर हँसते हुए
आगे बढ़ते रहो
सफलता एक दिन
कदम चूमेगी
चेहरे पर आजीवन
मुस्काराहट रहेगी

© डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
18-02-2012
189-100-02-12

3 टिप्‍पणियां:

  1. हिम्मत होंसले से
    लड़ते रहो
    ना हताश हो
    ना निराश हो
    निरंतर हँसते हुए
    आगे बढ़ते रहो
    सफलता एक दिन
    कदम चूमेगी
    चेहरे पर आजीवन
    मुस्काराहट रहेगी....................ek dam sahi kaha hain aapne ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. जूझना पड़ता है परिस्थितियों से, तब मिलती है सफलता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. uttam .bina prayatn ke safalta nahi milti .......sakaratmk prerna deti hui aapki rachna . abhar

    उत्तर देंहटाएं