ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

गुरुवार, 16 फ़रवरी 2012

कुछ तो बात अलग है आज

कुछ तो
बात अलग है आज
अंदाज़ उनका बदला
हुआ है
मैं बात करने का
इंतज़ार करता रहा
उन्होंने इशारे से काम
चला लिया
मन में सवाल पैदा
कर दिया
क्या नाराज़ हैं मुझ से ?
या खुद परेशान हैं
किसी बात से
जब तक जवाब नहीं
मिलेगा
मन मेरा भी बेचैन
रहेगा
उनके जैसा ही हाल
मेरा भी होगा
मुझे भी इशारों से
काम चलाना होगा
निरंतर जवाब का
इंतज़ार करना होगा
07-02-2012
117-28-02-12

6 टिप्‍पणियां:

  1. action speaks louder than words...

    पढ़िए इशारे...

    उत्तर देंहटाएं
  2. "MUJHE BHI ESHARON SE KAM CHALANA HOGA"
    SUNDAR RACHNA,
    JO BAT JUBAN NAHI KAR PATI, WOH NAZAR KAR DETI HAI,
    JO NAZAR NAHI KAR PATI, WOH KAM ESHARE KAR DETE HAI
    KOE GAM NAHI JO WOH ANDAZ BADLE,
    AKHIR WOH APNE HAE,BADLENGE BHI TO KAHAN JATE HAE.

    उत्तर देंहटाएं