ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शनिवार, 25 फ़रवरी 2012

सशक्त कविता का जन्म


जीवन की भट्टी में
अनुभव की 
अग्नि में तप कर
सत्य की कलम से
शब्द जब आकार लेते हैं
 सशक्त  कविता का
जन्म होता है
सच्चे मन से
पढने वाले का जीवन
निश्चित रूप से उससे
प्रभावित होता है
ऐसी कविता उनके लिए
पथ प्रदर्शक होती है
अच्छे मित्र और गुरु की
कमी को दूर करती है
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर 
11-02-2012
153-64-02-12

4 टिप्‍पणियां:

  1. bilkul sahi .ek sasakt kavita ka janm ...jeevan ki disha hi badal deta hai . kalam se accha dost aur anibhav se accha margdarshak ...doosra koi nahi hota ..........bahut sunder prastuti .

    aap isi tarah ek sasakt kavita ka janm karaye ........gamo ka saath chodkar khushiyon ko gale lagaye . bahut acchi lagi yah kavita . one of the best ...............:)
    badhai .

    उत्तर देंहटाएं