ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

मंगलवार, 21 फ़रवरी 2012

उन्हें बदनाम होने से बचा गए


वो खुशनुमा
ख्वाब देख रहे थे
यकीन से
आगे बढे जा रहे थे
हमने ही
कदम पीछे हटा लिए
उनका नाम गर हमारे
नाम से जुड़ जाता
तो जान लेते
हकीकत हमारी
टूट जाते ख्वाब उनके
हो जाते बदनाम
हम ही बदल गए
अपने वादे से मुकर गए
उन्हें बदनाम होने से
बचा गए
10-02-2012
136-47-02-12

4 टिप्‍पणियां:

  1. kai baar jivan mein dusro ki khaatir aisa bhi karna hota hai, man na chaahe par unki khatir...sundar rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वे ऐसे ही खुश रहें...पर खुश रहें...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुभानाल्लाह बहुत ही खुबसूरत।

    उत्तर देंहटाएं