ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

रविवार, 12 फ़रवरी 2012

तुम मेरे साथ हो....


तुम नजूमी हो या
हो कोई जादूगर
जो जान लेते हो
क्या चल रहा
मेरे जहन में
क्यों रो रहा दिल
मेरा
झट से ख्यालों में
आ जाते हो
मुझे समझाते हो
दिलासा देते हो
हिम्मत
बनाए रखने की
सलाह देते हो
सब्र का महत्त्व
बताते हो
कहीं मेरे 
दिल या मन का 
हिस्सा तो नहीं हो
जो बिना बताये
सब समझ जाते हो
जो भी हो ,
मेरे लिए किसी
फ़रिश्ते से कम नहीं हो
तुम वो हो
जिसका साथ
किसी खुश किस्मत
को ही मिल सकता
फिर समझ नहीं आता
क्यों कभी कभी
परेशां हो जाता ?
क्यों भूल जाता ?
तुम मेरे साथ हो....
03-02-2012
103-13-02-12

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 13-02-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  2. तुम वो हो
    जिसका साथ
    किसी खुश किस्मत
    को ही मिल सकता
    WAH BHAI NIRANTAR JI YE KHUSH KISHMATI KAI JANMON TK BARKARAR RAHE.....SUNDAR RACHANA KE LIYE SADAR BADHAI.

    उत्तर देंहटाएं
  3. jab itna sukhad ahshas hai tab wakai pareshaan hona vyarth hai..umda rachna..sadar badhayee aaur aamantran ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं