ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शुक्रवार, 24 फ़रवरी 2012

इतनी ज़ल्दी कैसे भूल जाता है कोई


इतनी ज़ल्दी कैसे
भूल जाता है कोई
देख कर भी अनदेखा
करता है कोई
उम्मीदों के सपने
दिखाता है कोई
दिल लगा कर फिर
तोड़ता है कोई
ये कौन सा दस्तूर
निभाता है कोई
पुचकार कर फिर
जिबह करता है कोई
सारी हसरतें धूल में
मिलाता है कोई
मोहब्बत को बदनाम
करता है कोई
इतनी ज़ल्दी कैसे
भूल जाता है कोई
11-02-2012
150-61-02-12

2 टिप्‍पणियां:

  1. bhool jana logon ki fitrat me hota hai kabhi vo bhool jati hai kabhi vo bhool jata hai.
    badhia prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  2. भूलना तो तब कठिन होता है जब यादों में बसाया होता है।

    उत्तर देंहटाएं