ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

बुधवार, 2 नवंबर 2011

तसल्ली


जब
खबर मिलती
वो तसल्ली से हैं
दिल को
सुकून मिलता
उनकी
तसल्ली ही तो
निरंतर
मेरी ज़िन्दगी का 
मकसद था
02-11-2011
1737-06-11-11

2 टिप्‍पणियां: