ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

रविवार, 23 अक्तूबर 2011

आँसू


खुशी में

हँसी रुक नहीं
रही थी
अचानक
उनकी याद
आ गयी
हँसी,गम में
बदल गयी
पहले खुशी में
आँसू बह रहे थे
अब गम में
बहने लगे

23-10-2011
1698-105-10-11

2 टिप्‍पणियां: