ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

गुरुवार, 6 अक्तूबर 2011

तमन्ना थी इक कंधा ढूँढ लूं


तमन्ना थी
इक कंधा ढूँढ लूं
ग़मों को हल्का कर लूं
इत्मीनान से
दिल की बात कह दूं
मुंह खोलता उस से
पहले ही ज़माने को
खबर हो गयी
रंजिश रखने वालों के
दिलों में आग लग गयी
पाक रिश्ते को
इश्क का नाम दे दिया
सारे शहर में बदनाम
कर दिया
ग़मों का बोझ बढ़ा दिया
 बेसहारे का अकेला 
सहारा भी छीन लिया
05-10-2011
1611-19-10-11

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. samaj ka dastoor hai..kabhi kabhi bheed me kuch bekasooron ke bhi pair kuchal jaate hain..jamana nahi rokega to galat log iska fayada utha lenge

    उत्तर देंहटाएं
  3. jamane ka yahi dastoor hai..bheed me chalte hue kuch bekasoor logon ke pair bhi kuchal jaate hain...jamna bekhabar rahega to kuch galat log iska fayada uthane lag jayenge

    उत्तर देंहटाएं
  4. jamane ka yahi dastoor hai..bheed me chalte hue kuch bekasoor logon ke pair bhi kuchal jaate hain...jamna bekhabar rahega to kuch galat log iska fayada uthane lag jayenge

    उत्तर देंहटाएं