ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

मंगलवार, 13 सितंबर 2011

मन मेरा चंचल बहुत कैसे इसे समझाऊँ ?

मन मेरा चंचल बहुत
कैसे इसे समझाऊँ ?
इच्छाएँ बहुत संजोता
स्वप्नलोक में खोता
कैसे वश में  करूँ ?
हर आशा पूरी नहीं होती
सत्य कैसे इसे बताऊँ ?
ना थकता ना रुकता
निरंतर चलता रहता
अविरल विचारों में बहता
समुद्र की लहरों सा
उफनता  
कैसे विराम लगाऊं ?
मन मेरा चंचल बहुत
कैसे इसे समझाऊँ ?
13-09-2011
1500-72-09-11

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सुन्दर...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. मन अति चंचल होता है वही इंसान को गतिमान बनाए रखता है।

    उत्तर देंहटाएं