ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

गुरुवार, 14 जुलाई 2011

आज फिर याद ताज़ा हुयी ,ज़ुल्म की कहानी याद आयी

एक सूरत याद आयी

दिल-ओ-दिमाग में 
झुरझुरी छायी
हर पुरानी बात 
याद आयी
कब और कहाँ ?
पहली बार मिली थी
वो तारीख 
वो जगह याद आयी
क्या उसने कहा ?
क्या मैंने कहा ?
हर बात याद आयी
दिल-ओ-जान एक
होते गए
निरंतर वादे पर वादे
करते रहे
मोहब्बत में खो गए
कैसे सपने टूटे ?
कैसे वो रूठ गए ?
हम रोते रह गए
ग़मों का बोझ सहते रहे
हर लम्हा 
उन्हें याद करते रहे
आज फिर याद
ताज़ा हुयी
ज़ुल्म की कहानी
याद आयी
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर


14-07-2011
1184-67-07-11
 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें