ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

सोमवार, 4 जुलाई 2011

पहली नज़र

पहली नज़र ने
 बेबस किया  
निगाहों को थामा
दिल को बांधा
कौन हूँ ?
भुला दिया
जहन में जलजला
मचा दिया
जीने का मकसद
दे दिया
मुझे मंजिल का
पता बता दिया
04-07-2011
1132-16-07-11

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें