ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शनिवार, 30 जुलाई 2011

क्यूं शराब पीकर मदहोश होता ?

क्यूं शराब पीकर

मदहोश होता ?

लम्हा लम्हा उसे

याद करता

ग़मों को भूलने की

कोशिश करता

कामयाब अभी तक

हुआ नहीं

ना गम भूला ना

उसको भूला

हकीकत से वाकिफ

हो जा

जाने वाला लौट कर

आता नहीं

क्यूं ना उसको ही

भूल जाता ?

निरंतर जिसके खातिर

जाम भर भर पीता

मयखाना आबाद

करता

रोज़ रो रो कर

मरता

उसकी रूह को भी

दुखी करता

30-07-2011

1270-154-07-11

1 टिप्पणी:

  1. yeh ittefakh hi kah sakte hain ki kal maine bhi peene vaale ke vishay me ek ghazal likhi thi dono ke bhaav alag ho sakte hain.ho sake to mere blog par padhna shayad aapki ghazal ka hi uttar mile.any way bahut achchi gamgeen ghazal.

    उत्तर देंहटाएं