ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शनिवार, 30 जुलाई 2011

मोहब्बत क्यों? कब? और कैसे होती है अब समझ आ गया

चेहरा खूबसूरत,

अंदाज़ निराला

रंग-रूप न्यारा

देखते ही

दिल को लुभाया

बातों ने मुझे उनका

बनाया

निरंतर पूंछा सबसे

कोई नहीं

समझा पाया

मोहब्बत क्यों?

कब?

और कैसे होती है

अब समझ आ गया

30-07-2011

1265-149 -07-11

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें