ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

गुरुवार, 28 जुलाई 2011

बस एक बार कह दो ,तुम मेरी हो

बस एक बार कह दो

तुम मेरी हो

कसम खुदा की

फिर ना पूछूंगा

ना शक शुबाह रखूंगा

ना ख़्वाबों में देखूंगा

नज़रों से दूर ना

होने दूंगा

हर नखरा उठाऊंगा

हर बात मानूंगा

चुप रहूँगा

किसी और की

ना हो कभी

निरंतर दुआ खुदा से

करूंगा

आराम से सुलाऊंगा

खुद भी आराम से

सोऊँगा

28-07-2011

1257-141 -07-11

1 टिप्पणी:

  1. बस एक बार कह दो
    तुम मेरी हो
    कसम खुदा की
    फिर ना पूछूंगा
    ...phir puchna to bekar ho jaayega n!
    waah bhai hamen to apni se baat lagi auro ko khuda jaane!

    उत्तर देंहटाएं