ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

मंगलवार, 19 जुलाई 2011

हाल-ऐ-दिल गर चेहरा बताता

हाल-ऐ-दिल
गर चेहरा बताता
इंसान कभी धोखा
ना खाता
चेहरा पहले लुभाता
चमक से
चकाचौंध करता
फिर ठोकर खिलाता
इंसान को निरंतर
भ्रम में रखता
19-07-2011
1205-85-07-11

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें