ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

गुरुवार, 14 जुलाई 2011

किस के माथे पर चोर लिखा

किस के माथे पर
चोर लिखा
किस के माथे पर
साहूकार
जो दिखता चोर
साहूकार होता
खुद को साहूकार
कहने वाला
चोर निकलता
चेहरा
दिल का सच
किसी  चेहरे पर
लिखा नहीं होता
 फिर भी निरंतर
लोग चेहरों को
परख का पैमाना
बनाते
जाल में फसते
रहते
14-07-2011
1181-64-07-11

3 टिप्‍पणियां:

  1. sabhi to chor hain! bus sabka shor hai..

    उत्तर देंहटाएं
  2. गुरु ब्रह्मा गुरुर विष्णु: गुरुर्देवो महेश्वर: !
    गुरु: साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्री गुरुवेनम: !!
    ....
    ध्यान मुलं गुरुर पदम, पूजा मुलं गुरुर मूर्ति !
    मन्त्र मुलं गुरुर वाक्यं, मोक्ष मुलं गुरुर कृपा !!

    गुरु पूर्णिमा के पवन पर्व पर हार्दिक मंगलकामनाये !!

    उत्तर देंहटाएं