ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शनिवार, 11 जून 2011

इश्क बड़ा ज़ालिम क़यामत बहुत ढहाए ?

इश्क बड़ा ज़ालिम
क़यामत बहुत ढहाए ?
ना हंसने,रोने दे
ना उठने ,बैठने दे 
नींद हर हाल में 
उडाये
ख़्वाबों की दुनिया में
गोते लगवाए
चेहरा हाल-ऐ-दिल
सारे जहाँ को बताये
आशिक को
  इंतज़ार माशूक का
कराये
बेचैनी को दोस्त 
बनाए 
निरंतर ज़िन्दगी और
मौत के बीच झुलाए
11-06-2011
1032-59-06-11

1 टिप्पणी: