ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

शुक्रवार, 15 अप्रैल 2011

अब आदत कैसे बदलेंगे हम ?


उनके
जुदा होने का गम नहीं
वो अब कभी आयेंगे नहीं
इंतज़ार
की आदत पड़ गयी
वो हैरान करेगी हमें
ख़्वाबों से
कैसे दूर रखेंगे उनको ?
ख्यालों से
 कैसे हटाएँगे उनको ?
निरंतर
आदत हमें उनकी पड़ गयी
अब आदत
कैसे बदलेंगे  हम ?
15-04-2011
676-109-04-11

2 टिप्‍पणियां: