ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

सोमवार, 11 अप्रैल 2011

काश,जहन में आइना होता

काश
जहन में आइना होता
सब को
सब कुछ साफ़ साफ़
दिखता
ना कोई किसी को,
किसी के लिए बरगलाता
ना कोई बहम रखता
जो आँखों से दिखता
सिर्फ उस को सच मानता
निरंतर दूसरों को सुकून से
जीने देता
खुद भी सुकून से
जीता
11-04-2011
655-88-04-11

3 टिप्‍पणियां:

  1. सही कहा आपने
    काश
    जहन में आइना होता
    सब को
    सब कुछ साफ़ साफ़
    दिखता
    ------------------------
    आपके ब्लॉग पे आया, दिल को छु देनेवाली शब्दों का इस्तेमाल कियें हैं आप |
    बहुत ही बढ़िया पोस्ट है
    बहुत बहुत धन्यवाद|

    यहाँ भी आयें|
    यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर अवश्य बने .साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ . हमारा पता है ... www.akashsingh307.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. jahan mein ayina hot a topoori dunyia hil jatisabko doosaro ki asliyat ndikh jati

    उत्तर देंहटाएं