ADVERTISEMENT

Bookmark and Share

Register To Recieve Latest Poems On Your Email or Mobile

Enter your email address:

Click Here To Subscribe On Mobile Bookmark and Share

मंगलवार, 16 फ़रवरी 2016

Happiness

Early morning
While walking on the beach
The saint saw two people 
Walking side by side with him 
The one on the left with 
One eye and one hand missing
Was throughout smiling  
The one on the right 
With poor health and weak body 
Was throughout grumbling 
After the walk 
He asked the first one 
Why were you continuously smiling? 
He replied god has been kind to me
In an accident, he did not snatch 
The other eye and hand from me 
To thank him I keep smiling 
The saint repeated the question to 
The one continuously grumbling 
He replied
God has not been kind me
He gave poor health and 
A weak body to me 
The saint said
You would not have been happy 
Even if he had given you
A healthy strong body
Happiness lies in the positive mind 
Negative people keep on crying 
Dr.Rajendra Tela,Nirantar 
16-02-2016
positive,mind,life,happiness ,grumbling

रविवार, 14 फ़रवरी 2016

Kiss

A fond kiss
On the forehead
Shows great affection
A kiss on the Lips
Is love on the
 Highest peak
A kiss on the cheek
Is a welcome
Farewell sign
A kiss on the knuckles
Is respecting others
Kiss of peace is
 A symbolic gesture
A kiss can be a
Religious ritual
To express
Mutual admiration
Friends kiss each other
On cheek, forehead
And knuckles
A kiss is liked by
One and the other
Dr.Rajendra Tela,Nirantar 
Kiss
14-02-2016  

सोमवार, 1 फ़रवरी 2016

Change

Change is imminent
Change is important
Change for worse is bad 
Change for good 
Is a welcome change
Stagnation causes putrefaction
Putrefaction causes disease
So change is essential
Whether it is season
Or it is time
Everything changes
From time to time
Even in life
Age keep changing
The body changes 
Until and unless
The thought doesn’t change
All changes are worthless
Dr.Rajendra Tela,Nirantar

सोमवार, 11 जनवरी 2016

I haven’t forgotten her

I haven’t forgotten her
Though
She betrayed me
I haven’t forgotten her
I know she too hasn’t
Forgotten me
Her soul keeps on
Pricking her
Asking the question
Why she did not
Give me a chance
To hear
The truth from me
Though
 I have forgiven her
I am sure
Her soul will never
 Forgive her
Not for the betrayal
But for the
Bad name
She has given
To my pious love
Any lover
Who hears my story
Curses her
Dr.Rajendra Tela,Nirantar
Love,memory,betrayal

10-01-2016

रविवार, 10 जनवरी 2016

What else should I do?

What else should I do?
You were crying
My heart was bleeding
You were suffering
My soul was paining
You were Angry
I was silently praying
You were depressed
I was consoling
You were laughing
I was enjoying
You were hungry
I remained hungry
You wished
I fulfilled
 Still you say
I do not care for you
What else should I do?
 To make you happy
Dr.RajendraTela,Nirantar 
Love,care

10-01-2016

One to one

One to one

One to one is the way I like
Thinking of someone else
But face towards me
Is what I dislike
Involving heart with heart
Mingling mind with mind
Passionately connecting
Soul to soul
Loving each other
Is my way of life?
Dr.Rajendra Tela,Nirantar 
10-01-2016

It was office time

It was office time
It was office time
Shrunken belly
Tears in eyes
The starving child
Hopefully stared
At the passers by
To have mercy
Give something to eat
Make him survive
Everybody looked
Pityingly at him
Nobody had time for
The starving child
Avoiding fine
Reaching office in time
Was more important
Than humanity
Dr.Rajendra Tela,Nirantar
Hunger,humanity,life,poverty,child
11-01-2016


शनिवार, 2 जनवरी 2016

Childhood fragrance

Childhood fragrance
The sweet fragrance of
The carefree world of
Childhood
Remains hidden
Until one is a grown adult
Tied in innumerable
Knots of desires and necessities
When even a carefree
Sound sleep looks distant
One is left with
No other choice
Except drowning oneself
In the sea of memories
As much as possible
Dr.Rajendra Tela,Nirantar
Childhood,memories,fragrance,life

02-01-2015

शुक्रवार, 1 जनवरी 2016

It is not easy to remain human

 It is not easy to remain human
It is not easy to
Remain human
Live like a saint
Behave like god
Shed the desires
For contentment
Of the soul
Sacrifice needs
For peace
Make the heart
As hard as a rock
Control the emotions
In difficult situations
Give away comforts
Live a simple life
See all humans
With the same eye
Dr.Rajendra Tela,Nirantar
Saint,human,god,life

01-01-2016

Choice

Choice
Regularly
Lured by
Beautiful faces
Lured by
Attractive blondes
Coaxed by
Talented girls
To accept them
As my lady
Simply because of
Their beauty
Never bothered me
I chose
My beloved
For her simplicity
Honesty
Nice manners
Understanding
And
Humility
Dr.Rajendra Tela,Nirantar
Beauty,choice,

01-01-2016

The path of correction

The path of correction
Though your memories
Brings tears in my eyes
Increase my desperation
I do not curse you
For your betrayal
I believe it to be because of
My emotional heart
Failure of my mind
To judge your truth
On the contrary
I thank you for your
Ruthless behavior
Which has led me to?
The path of correction
Establishing a balance between
Heart and the mind
Take a well thought decision
Not get entrapped
In the web of emotions
Dr.Rajendra Tela,Nirantar
Love,betrayal,emotions,life
1-1-2016


गुरुवार, 31 दिसंबर 2015

Life is a waiting game

Life is a waiting game
Life is a waiting game
One keeps waiting
To accomplish
Ambitions aspirations
Desires and goals
Waits to fulfill
Contentment
Peace and solace
How much one may try?
One after the other
Some obstacle intervenes
Leaving the mind puzzled
 The heart unfulfilled
Death is the only thing
Of which one is sure
Sooner or later it comes
Dr.Rajendra Tela,Nirantar
31-12-2015

Life,wait

Encounter

Encounter
=========
My first
Encounter with her
Was not between
Two persons
Two hearts
Or two minds
Eyes were the culprit
No sooner they met
They refused to close
As if they did not want to
Miss a moment of
What they saw
The heart had to listen
The mind intervened
Encounter of the eyes
Turned into defeat for me
Victory for her
I had surrendered myself
To her beauty
She had conquered
My heart and soul
Dr.Rajendra Tela,Nirantar
31-12-2015
beauty,love,encounter

Honesty

Honesty
========
It is neither easy
Nor very difficult
To keep one’s
Honesty intact
End of the day
It is the price
That matters
If one falls prey
He is dishonest
If one does not
He remains honest
Dr.Rajendra Tela,Nirantar
Honesty,life

31-12-2015

Stillness

Stillness
========
Life is neither still
Nor does anybody wants it to be
Still like a dead wood
Pebbles of grief sorrow happiness
Desires people events happenings
Keeps stirring life’s still water
Pushes the stillness
Out of the periphery of silence
Death is the only happening
Which welcomes the stillness?
Pushing emotions desires
Away from life
Silences the heart and mind
To a peaceful rest
Dr.Rajendra Tela,Nirantar
life,stillness,silence
31-12-2015


Think before you act

Think before you act
================
Left and right
Front and behind
Sitting on a tree branch
The little sparrow
Looked all around
Reassured herself
Of safety from
Prowling killers
Flew to the garden
From the oak tree branch
Again looked all around
To ensure her life
From hidden enemy
Cautiously took step by step
Plucked a weed
 From the green grass
Did not waste time
Flew back to build her nest
Think before you act
Taught the world

Dr.Rajendra Tela,Nirantar
cautious,think,careful
31-12-2015

शुक्रवार, 12 जून 2015

संसार एक रंग मंच न्यारा

संसार एक रंग मंच न्यारा
संसार
एक रंग मंच न्यारा
नित नया
नाटक होता यहां
दर्शक बदलते 
कलाकार बदलते
साज सज्जा बदलती
वेश भूषा भाषा बदलती
मंच पर्दा निर्माता
निर्देशक नहीं बदलते यहाँ
कभी हँसना नाचना
कभी रोना धाना होता यहाँ
कभी सुखद कभी दुखद
नाटक खेला जाता यहां
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
नाटक,संसार,रंग मंच,जीवन

45-12-06-2015

मंगलवार, 26 मई 2015

मन की खिड़की

मन की खिड़की
बंद खिड़की से
ना उजाला आता
ना हवा आती
अध खुली खिड़की से
हवा भी कम आती
उजाला भी कम आता
कमरे में घुटन
और अँधेरा हो जाता
खुली खिड़की से
हवा भी पूरी आती
उजाला भी पूरा आता
मन की खिड़की
हृदय के कपाट खुले हो
मन विकार रहित
जीवन सुलभ हो जाता 

डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
अँधेरा,उजाला,मन,हृदय,जीवन,

44-26-05-2015

तेरी ज़िंदगी में मेरा कोई ज़िक्र नहीं है

तेरी ज़िंदगी में मेरा कोई ज़िक्र नहीं है
तेरी ज़िंदगी में
मेरा कोई ज़िक्र नहीं है
मगर मेरी ज़िंदगी के
हर पन्ने की हर इबारत
तेरे ज़िक्र से भरी हुई है
हर ख्याल में
तेरी सूरत सजी है
ये बदकिस्मती ही है
मेरी ज़िंदगी अधूरी है
हसरतों को खुदा की
मंज़ूरी नहीं है

डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
नज़्म,शायरी,मोहब्बत,हसरत,

43-26-05-2015

अहम का कोहरा

अहम का कोहरा
कुछ लोग
अपने आप से घिरे हैं
अहम के कोहरे से
ढके हैं
मोहब्बत से परे हैं
भ्रम में जी रहे हैं
आइना देखने की
फुर्सत नहीं
आइना दिखाने में
लगे हैं
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
अहम, जीवन

42-26-05-2015

कहने को बातें बहुत हैं

कहने को बातें बहुत हैं
कहने को बातें बहुत हैं
कहूँ जितना ही कम हैं
मौसम से प्रारम्भ होगी
देश विदेश,राजनीति 
टीवी सिनेमा से होते हुए
घर परिवार में पहुँच जाएंगी
रास्ता भटक कर
लोगों पर अटक जायेगी
मन की कुंठा बाहर आएगी
किसी की प्रशंसा
किसी की बुराई होगी
जुबां गन्दी हो जायेगी
सोच पर प्रश्न खड़ा करेगी
क्यों ना कम कह कर
कम चलाऊं
जितनी आवश्यक
उतनी बात करूँ

डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
बातें,कहना,जीवन

41-26-05-2015

सोमवार, 25 मई 2015

शब्दों का खेल

शब्दों का खेल
ना किसी
कविता में दर्द होता है
ना कोई गीत
दुःख से भरा होता है
ना प्यार मोहब्बत
किसी ग़ज़ल में होता है
ना ही किसी नज़्म में
जुदाई बेवफाई होती
सब शब्दों का खेल है
मन संवेदनशील
भावनाओं से युक्त ना हो
मानवता का सोच न हो
कविता हो या ग़ज़ल
सब इकसार लगते हैं
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
कविता,ग़ज़ल,नज़्म,गीत

40-25-05-2015

"मैं "बस गया हृदय में

"मैं "बस गया हृदय में
दूसरों में अवगुण ढूंढना
स्वयं के अवगुण छुपाना
मानवता की बात करना
अमानवीय काम करना
धर्म हो गया इंसान का
धन संचय अहम स्वार्थ
ईर्ष्या द्वेष होड़ में जीना
लक्ष्य हो गया इंसान का
"मैं "बस गया मन में
समाहित हो गया हृदय में
अब नहीं रहा इंसान
जैसा चाहा था भगवान ने

डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
भगवान,अहम,स्वार्थ,होड़,जीवन
39-25-05-2015

सूरज तुम चमकना छोड़ दो गुलाब तुम महकना छोड़ दो

सूरज तुम चमकना छोड़ दो
गुलाब तुम महकना छोड़ दो
इतना
स्वार्थी हो गया इंसान
मन ही मन कहता है
सूरज तुम चमकना छोड़ दो
गुलाब तुम महकना छोड़ दो
किसी का सुख किसी की ख़ुशी
अब स्वीकार नहीं उस को
मन पर अहम का
आधिपत्य हो गया
स्वयं के सिवाय कोई
अच्छा लगता नहीं उस को
दिखाने को कहता है
प्रेम भाईचारा चाहता है
पर देता नहीं किसी को
काठ के हृदय निष्ठुर मन से
अब जीता है इंसान
मन ही मन कहता है
सूरज तुम चमकना छोड़ दो
गुलाब तुम महकना छोड़ दो
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
अहम,स्वार्थ,इंसान,जीवन,

38-25-05-2015

सोमवार, 11 मई 2015

सुकून से जीने दो

सुकून से जीने दो
दिन का उजाला
तुम रख लो
मुझे शाम का
सांवलापन ही दे दो
सारी ख्वाहिशें
तुम पूरी कर लो
मुझ पर खुदा का
रहम ही रहने दो
बड़ी इमारत में
तुम रह लो
मुझे छोटे से 
घर में ही रहने दो
नफरत रंजिश
तुम कर लो
मुझ को मोहब्बत
करने दो
बेचैनियों का
सामान 
तुम इकठ्ठा कर लो
मुझे सुकून से
जीने दो

डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
सुकून,नज़्म,शायरी,नफरत,मोहब्बत
37-11-05-2015

बहता पानी हूँ

बहता पानी हूँ
बहता पानी हूँ
रोका तो
अपने में
सदा के लिए
रुक जाऊंगा
रिश्ते नाते दोस्त
सब भूल जाऊंगा
संसार से दूर होता
चला जाऊंगा
एक दिन
बुझ जाऊंगा
यादों में
रह जाऊंगा
डा,राजेंद्र तेला,निरंतर
जीवन,

36-11-05-2015

काँटों के बीच रहता हूँ

काँटों के बीच रहता हूँ 
काँटों के बीच
रहता हूँ 
लहूलुहान होता हूँ
दर्द में तड़पता हूँ
चुपचाप सहता हूँ
कैक्टस सा जीता हूँ
ईश्वर में
आस्था रखता हूँ,
धैर्य को
लक्ष्य बना कर
निरंतर हँसता हूँ
डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
आस्था,कैक्टस ,धैर्य,लक्ष्य,

35-11-05-2015

रविवार, 10 मई 2015

माँ,तुम हो देवी अवतार

माँ,तुम हो देवी अवतार
माँ कहाँ से लायीं तुम
ये प्रेम स्नेह ममत्व
धैर्य कर्तव्य की
अथाह धन सम्पदा
किसने दिया तुम्हें
सहनशीलता सहृदयता
संवेदनशीलता का उपहार
माँ तुम अहम
अहंकार से परे हो
जीवों में अतुल्य हो
मुख से कुछ नहीं कहोगी
तो भी  करना पड़ेगा 

सच स्वीकार
माँ तुम हो देवी अवतार
करती हो संतान का 

बेडा पार 
तुम्हें शत शत नमन
तुम पर जीवन अर्पण

डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
माँ ,ममत्व,मातृत्व,स्नेह 

34-10-05-2015

अजीबो गरीब है ये इंसानों की दुनिया

अजीबो गरीब है ये इंसानों की दुनिया
अजीबो गरीब है
ये इंसानों की दुनिया
चंद लोगों को ही मिलती है
धन दौलत
सर छुपाने को कोठियां
बीत जाती है झोंपड़ी
फुटपाथ पर ज़िंदगियाँ
ना दो वक़्त रोटी का पता
ना खेलने को मैदान
बचपन में बुढ़ापा
देख लेती हैं ज़िंदगियाँ
बीमारी में सांस लेते लेते
चल बसती हैं ज़िंदगियाँ
सुबह से शाम जी तोड़ मेहनत
फिर भी दर्द से
बिलबिलाती हैं ज़िंदगियाँ
हँसती नहीं उससे ज्यादा
रोती हैं ज़िंदगियाँ
चिलचिलाती धूप
आंधी बरसात में
तिल तिल कर मरती हैं
ज़िंदगियाँ
सभ्य आँखों को
खटकती हैं ज़िंदगियाँ
बड़ी अजीब है
ये इंसानों की दुनिया
चंद लोगों को ही मिलती है
धन दौलत
सर छुपाने को कोठियां

डा.राजेंद्र तेला,निरंतर
33-10-05-2015

दुनिया,गरीब,गरीबी ,इंसान